क्लास मेट को बंद कमरे मे चोधा - Antarvasna.Us
AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

क्लास मेट को बंद कमरे मे चोधा

» Antarvasna » Hindi Sex Stories » क्लास मेट को बंद कमरे मे चोधा

Added : 2017-02-03 00:18:55
Views : 4327
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us
अपनी कहानिया भेजे antarvasna.us@gmail.com पर ओर पैसे क्माए

हे फ्रेंड्स, मेरा नाम आर्यन है ओर ये मेरी दूसरी स्टोरी ह ओर मेरी हाइट 5’11″ , रंग मिल्की
वाइट ओर बॉडी फिज़ीक भी ठीक ठाक है. ये मेरी इस साइट पे पहली स्टोरी है ओर इसमे लड़की है
मेरी क्लासमेट परी जो मेरे साथ मेरे स्कूल में पढ़ती थी| ओहो मैं तो तुम्हे परी क
बारे मे तो बताना ही भूल गया. उसका रंग एकदम गोरा, बाल घने काले, आवरेज बूब्स ओर
बोहट ही लस्टी पिछवाड़ा था| उसकी हाइट 5’9″ है ओर उसकी बेल्ली क तो क्या कहने दोस्तो की बस ऐसी
कमर अगर एक बार च्छुने को मिल जाए तो बस जन्नत ही मिल जाए| वो मेरी बोहट ही अची फ्रेंड थी ओर हम हमेशा बातें शेर किया करते थे. लेकिन एक दिन हमारी किसी बात पर
लड़ाई हो गयी ओर हम्ने एक दूसरे से मिलना जुलना बंद कर दिया पर अंदर से हम एक दूसरे को
चाहते थे| पहले मैं ये सोचता था की सिर्फ़ मैं ही उसे प्यार भरी नज़र से देखता हू पर
मुझे जब पता चला की वो मुझे किस नज़र से देखती है तो मैं तो मैं दंग रह गया दोस्तों..
चलो सीधा मुद्दे पे आते हैं, एक दिन हमारे स्कूल में एक छोटा सा फंक्षन था ओर
मैं अपने स्कूल का ड्रम मास्टर था, कोइंसिडंट्ली परी को भी ड्रम बजाने का ओर इंग्लीश गाने गाने का खूब शौंक था. हमारी कोवोर्डिनेटर ने जब हमारे ग्रूप्स डिवाइड किए तो

मुझे ओर परी को एक ही ग्रूप में डाल दिया हालाँकि मैं इस चीज़ क सख़्त खिलाफ था पर
कोवोर्डिनेटर ने मेरी एक ना सुनी. अब रहेरसाल का समय आया ओर मैं ड्रम बजाने लगा हमारे
म्यूज़िक हॉल में ओर परी भी मेरी ताल से ताल मिला कर गाना गा री थी| परी का इंग्लीश सॉंग सुन
कर मैं पहले तो इंग्लीश में गुनगुनाया ओर फिर मैने धीरे से उसे हिन्दी में तब्दील कर
दिया| मेरा गाना हिन्दी में सुन कर परी भी मेरे साथ हिन्दी में गाने लगी| थोड़ी देर बाद जब हमारी रहेरसाल ख़तम हुई तो हमें टीचर ने रेस्ट करने को कहा पर
बदक़िस्मती से एक ही बेंच पड़ा था वहाँ ओर वो भी छ्होटा सा. खैर उसी बेंच पर मैं
ओर परी बैठ गये एक साथ सतक कर ओर दोनो तेज़्ज़ सर्दी होने क कारण हमारे पास एक
ब्लंकेट भी था| मैने परी से कहा की अगर त्ंहे अलग लग रा है मेरे साथ एक ही कंबल
में बैठने से या तुम किसी भी तरह से उन कंफर्टबल फील कर रही हो तो मुझे ब्टा दो मैं
दूसरी जगह जा कर बैठ जाउन्गा पर उसने कहा की नही मैं बिल्कुल ठीक हू जिसे सुन कर मेरे अंदर एक बिजली सी दौड़ पड़ी क्या बताउ दोस्तों वो zएब्रा टाइट त-शर्ट ओर लेगैंग्स मे क्या लग

री थी.. मेरा तो टेंट लग गया था उसके साथ सतकते ही. फ्र उसने मेरी ओर देखा ओर मेरा एक हाथ
पकड़ लिया ओर उसे सहलाने लगी तो मैने उसे बड़ी ही विचित्रा नज़रों से देखा तो वो बोली की
त्म्हरे हाथ पे तो चोट लगी है ये कैसे लगी मैने कहा बिके से स्लिप हो गया था तो वो ँझे
दाँत लगाना शुरू हो गयइ ओर कहा की त्ंहे शरम नि है कितनी बार समझाया है त्ंहे की
बिके धीरे चलाओ पर तुम कभी नि सुनते ये वो….. मैं उसकी बातें पता नही क्यूँ सुनता रा पर मैं कुछ ना कह सका ओर इतने में उसने मेरा दूसरा हाथ भी सहलाना शुरू कर
दिया ओर उसने अपने दोनो हाथों मे मेरा हाथ लेकर कहा की कोई कुछ भी कहे पर मैं
तुमसे आज भी प्यार करती हू पर दोस्तो मैं सोच तो ये रा था की पहले ह्यूम एक दूसरे कब था
प्यार. उसका मेरे हाथ को सहलाना मेरी बॉडी में 440वॉट का झटका मार रा था मेरा
लंड खड़ा हो गया था ओर पंत मे एक टेंट लग गया था पर जैसे तैसे मैने अपनी फीलिंग्स को
कॉंटरोल्ल किया क्यूंकी हमारी म्यूज़िक टीचर ने हूमें रूम खाली करने को बोल दिया था तो ह्यूम व्हन से जाना पड़ा ओर हुँने मूड कर एक दूसरे की तरफ भी नही देखा. हम ऑलरेडी
स्कूल का टाइम ख़तम होने क बाद रहेरसाल कर र्हे थे ओर शाम क 5 गये थे की मैं अपनी
क्लासरूम में अपना बाग ओर वॉटर बॉटल उठगने गया तो मैने देखा की परी क्लास की आखरी
बेंच पे हेड डाउन कर क सो र्ही थी ओर क्लास पूरी खाली पड़ी थी मैने सोचा की इसे उतोऊ
पर फ्र सोचा की नहीं पहले अपना बाग उठा लू फ्र जाते हुए इसे उठा दूँगा पर जब मैं अपनी
सीट पे पोहच् तो मैने देखा की किसी शरारती बाकछे ने मेरी सारी बुक्स मेरे बाग से निकाल कर मेरे बेंच क नीचे ज़मीन पे फैला दी थी. मैं उन बुक्स को कलेक्ट करने मे
लगा हुआ था की पेवं ने भार से गाते को टाला लगा दिया ओर मैं भाग कर जब तक डोर तक
पोहच् तब तक वो वहाँ से जा चुका था. मैं भोथ ही टेन्षन में था की एकद्ूम से परी ने
मेरे पेवं को ज़ोर ज़ोर से गालियाँ देने की आवाज़ें सुनी ओर वो भागती हुई मेरे पास आई
ओर बोली क्या हुआ तुम क्यू इतने फ्रस्टरेटेड से लग रे हो ओर जब मैने उसे पूरी बात बताई तो वो
एकद्ूम शॉक रह गयइ ओर धीरे से उसने रोना स्टार्ट कर दिया उसकी बाईं आँख से पहली आँसू की धार निकली तो मैने उसे चुप करने क लिए उसके कंधे पे हाथ राका ओर उसे
चुप करवाया ओर कहा की ह्यूम समझदारी से काम लेना चाहिए. मैने उसे कहा की मेरे
पास्स ब्लंकेट है ओर तुम आराम से रात को सो जाना ओर मैं बिना ब्लंकेट क सो जौंगा जिस पर
वो बोली की त्ंहे सोने की पड़ी है ओर मेरे घरवालो को सारी राअत नेन्न्ड न्ही आएगी तो
मैने कहा की कोई बात नही मैं तुम्हारी हेल्प करूँगा बताने में कल तो अभी तो हुमारे
पास ओर कोई ऑप्षन न्ही है. दोस्तों मैं तो रात होने का इंतेज़ार कर रा था क्यूंकी इतनी ठंड में वो मुझे बिना ब्लंकेट क तो सोने नही देती ओर वो ब जब उसने कुछ देर पहले
ंझसे प्यार-ए-इज़हार किया था. ओर अब वो पल आ ही गया जिसका मैं केवल सपना ही देखा
करता था वो जैसे ही ब्लंकेट में बैठी तो उसने मुझे भी उसके साथ शेर करने को कहा
जिसपर पहले तो मैने इनकार जताया फ्र भोथ ही जल्दी मान भी गया शेर करने को. हम
तकरीबन 12 ब्जे तक बातें करते रहे ओर उसने कहा की उसे दर्र लग रा है ओर घर की याद
आ री है ओर ब्स इतना कह कर वो धीरे से रोने लग गयइ. मैने उसे अपनी बाहों में लिया ओर उसके बालों को सहलाने लगा ओर उसे दिलासा देते देते उसे चुप करने लगा. तकरीबन
आधे घंटे बाद वो बोली की तुम भोथ औच्छे हो मैं तो खमखा लोगों की बातों में
आ गयइ मैं तुमसे भोथ प्यार करती हू हॅपी ओर मैने कहा की मैं भी तुमसे उतना ही प्यार
करता हू. इतना कहते ही मैने उसके माथे पे एक किस कर दिया जिसके रिप्लाइ में उसने मेरे
गाल पे एक किस कर दी. फ्र मैने भी उसके गालों पे एक ज़ोरदार किस कर डाली ओर फ्र धीरे
धीरे उसके होंठो पे हल्का सा गेन्तल किस कर दिया क्यूंकी मुझे एससूरे नही था की वो भी रेडी है या नही पर उसने मेरी हल्की सी किस में भी पूरा साथ दिया तो मैं वक़्त की
नज़ख़्त को स्मझ गया ओर बिना कोई टाइम वेस्ट किए मैने उसके लिप्स पे एक जोरदार ओर लंबी
से स्मूच मार ली ओर वो भी मेरा साथ दे र्ही थी. अब मेरी जीभ उसकी जीभ से लड़ र्ही थी ओर
हमारे सलाइवा एक दूसरे क साथ मिक्स हो चुके थे. तभी मैने उसे पीछे से पकड़ लिया ओर
उसकी नेक ओर शोल्डर पे ज़ोर ज़ोर से किस करने लगा ओर वो भी सेक्षुयल वाय्सस निकालने लगी
मुझे पता था की अब ये भी गरम हो चुकी है……. मैने उसी त्यम अपना मूह उसकी नेक से हटा कर उसके कान पे रख दिया ओर उसे चूसने लगा की उसने सिसकारियाँ लेना स्टार्ट कर
दिया..” आआआआआआआआआआहह उूुुुउउम्म्म्मममममममम
ज्जाआाआआआअन्न्‍णणन्” मैने अपने दोनो हाथो से उसके दोनो बूब्स को पकड़ा जो की थोड़े
छ्होटे थे पर दे भोथ ही मज़ेदार ओर उन्हे धीरे धीरे दबानाए लगा ओर वो और ज़ोर से
आवाज़े निकालने लगी.”ओर करो जान प्ल्ज़ ई लोवे उ…..आआआआआहह ओह
उम्म्म्ममम” मैने और ज़डा वक़्त ना बर्बाद करते हुए उसकी टॉप उतार दी ओर उसके नेवेल को ज़ोर ज़ोर से चाटने लगा उसके नेवेल का मैं हमेशा से ही दीवाना था ओर धीरे धीरे
उपर की तरफ बढ़ने लगा मैने उसको बाआहों में लिया ओर उसकी ब्लॅक ब्रा का हुक पीछे
से खोल दिया. क्या नज़ारा था मा कसम आज से पहले मुझे ऐसा कभी फील न्ही हुआ था उसके
वाइट मिल्की बूब्स ओर पिंक निपल्स ने तो जैसे मुझे पागल सा कर दिया ओर मेरे अंदर का
जानवर जगा दिया मैने उसकी ब्रा को दूर फैंक दिया ओर उसके पिंक निपल्स को ज़ोर ज़ोर से
चूसने लगा ओर वो भोथ ही मीठी मीठी सी आवाज़ें निकालने लगी…..”आआआआआआः­ हह उउईईईईईईईईई माआआआआआआ ऊऊऊऊओउुुुऊउक्ककककककचह” अब
मैने उकी लेगिंग का बटन खोला ओर उसे नीचे की तरफ खींच दिया ओर वो अब मेरे
सामने केवल पनटी में थी उस्नी पिंक कलर की प्रिंटेड पनटी पहनी तजी जिस मे से उसकी
वेजाइना की भोथ ही मान मोहक खुश्बू आ र्ही थी. मैं उसकी गोरी सॉफ्ट ओर सिल्की जैसी थाइस को
सहलाने लगा काटने लगा चूमने लगा. फ्र मैने उसकी पनटी को उतारा ओर पहली बार किसी असली
की छूट क दर्शन किए. क्या बतौन दोस्तों मैं तो सातवे आसमान में था की जिस लड़की को मैने कभी सपने में भी इस हालत में सोच आज वो मेरे सामने बिना ब्रा ओर पनटी क
थी सच्ची मुझे तो अपनी आँखो पे विश्वास न्ही हो रा था महज़े तो यह सब एक सपना लग रा
था पर ये सच था ओर इतना सोचते ही मैं उसकी छूट की गहराई में डूब गया ओर उसे ज़ोर
ज़ोर से चूसने लगा ओर सिर्फ़ यही कह री थी”आआआआआहह नाहहिईीईईईईईईईईन्न्न­
न्‍न्‍णणन् हप्प्प्प्प्प्प्प्प्पयययययययी प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ ईईईईई तह्क्ककककककककक नही है
प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ आआआआअहह उम्म्म्ममममममम” पर मैं कहाँ मान ने वालो में से था मैने उसका हाथ अपने हाथ मे लिया ओर अपना 7 इंच का पेनिस उसके हाथ में पकड़ा
दिया जिसे देख कर वो बोली ओह मी गोद हॅपी इतना बड़ा. वो एक वर्जिन लड़की थी ओर इतना बड़ा
पेनिस उसके लिए आइरन रोड से कम नहीं था. इतना बड़ा पेनिस देखते ही कहने लगी की मुझे भोथ
दर्द होगा प्ल्ज़ हम इस से आयेज नहीं बढ़ सकते हॅपी पर मैं अब कहाँ रुकने वाला था
मैने उसे समझाया की उसे बस तोड़ा सा दर्द होगा ओर फ्र उस से भी जाड़ा मज़ा आयएएगा ओर उसके
बूब्स छ्होसने लग गया जिस पर वो फ्र से गरम हो गयइ ओर उसने अपनी टांगे फैला ली. मैने उसकी नयी नवेली ताज़ी छूट पे अपना लंड रखा ओर एक ज़ोर से धक्का लगाया बुत वर्जिन होने की
वजह से वो स्लिप हो गया ऐसा दो बार हुआ पर तीसरी बार में मेरे पेनिस का हेड उसके
अंदर चला गया ओए वो भोथ ज़ोर से चिल्लाई”आआआआआआआआआआअहह
माआआआआआआआआआअ मररर्ररर गायईीईईईईईईईईईईई” की तभी मैने उसके मूह को बंद
कराया एक ज़ोर दार स्मूच क साथ. फ्र मैने धीरे से उसके अंदर और ज़ादा जाना स्टार्ट कर
दिया ओर अब तो उसे भी मज़ा आने लगा ओर कहने लगी”जानू छोड़ो मुझे ओर छोड़ो खुजली मिटा दो आज मेरी छूट की ओर ज़ोर से आआआआआहह ऊऊऊऊऊहह
माआआआआआआआ” ओर मैने अपने धक्को की स्पीड ओर तेज़ कर दी कुछ देर बाद वो झड्द
गयइ ओर झाड़ते टाइम उसने मेरी पींत नोच ली. उसके झाड़ते ही मैं भी झड़ने वाला था ओर आस
हमारे पास कॉंडम तो था न्ही तो बिल्कुल सही वक़्त पे मैने निकाल लिया ओर उसकी बेल्ली पे
अपना सारा लोड निकाल दिया. उस रात मैने उसे 4 बार छोड़ा ओर फ्र मुझे ये सुनेहरा मौका
कभी नही मिला ओर अगर कभी मिलेगा तो मैं उसे उसी तरह से एंजाय करूँगा जैसे पहली बार किया था……. उम्मईएड है मेरी स्टोरी आप लोगों को ज़रूर पसंद आएगी ऐसी मैं आशा करता
हू…….कापूसिद्धार्ट845@गमाल.कॉम अन्य फीमेल वाना सेक्स वित मे टन कॉंटॅक्ट मे ओं मी सेल नो 07503586366

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story