भाबी की तपकी चूत - Antarvasna.Us
AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

भाबी की तपकी चूत

» Antarvasna » Bhabhi Sex Stories » भाबी की तपकी चूत

Added : 2017-02-18 03:05:34
Views : 3610
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us
अपनी कहानिया भेजे antarvasna.us@gmail.com पर ओर पैसे क्माए

हेलो दोस्तो आपकी दोस्त एक न्यू स्टोरी क साथ हाजिर है दरअसल ये किसी फ़र्ड ने शॉर्ट मे भेजी है मैं इसे पूरा करके आप लोगो तक पहुँचा रही हू और अंत मे मैल अड्रेस्स भी उसी का दिया है जो मेरे फ़र्ड मुझे इस कहानी क बारे मे कोई कॉमेंट देना चाहे तो मेरी आइड पे कॉमेंट देदे नही तो जाने दे सीधे सचिन को ही कॉमेंट कर देना ओक अब आप पड़े स्चिन की कहानी उसी की ज़ुबानी...
हेल्ल्लो मेरा नाम सचिन कटारिया मैं मीरूत से हू ओर मेरी लंबाई है 5"11 इंच मैं पड़ता हू मेरी आगे उमर 23 है और लंड का साइज़ 8" ओर मोटा इतना की लड़की तो क्या आंटी की भी चीख निकाल दे अब आपको मेरी रानी क बारे मे ब्ताता हू उसका नाम है पूजा ( बदला हुआ
नाम है ओर उसके दो बच्चे है उसका पति सुबह जल्दी काम पे चला जाता है और रात देर से आता है कभी कभी को आता ही नही मैं आपको ब्ता दूँ उसका पति ड्राइवर है और अक्सर वो रत को नही आता है ओक अब मेरी रानी क बारे मे बतता हू वो बहुत सुंदर है बात आजसे एक साल पहले की ह वो हमारे घर के पास किराए पर रहने आई थी पहली नज़र मे ही वो मुझे बहुत अच्छी लगी थी उसका रंग सफेड और काले लंबे बाल मुझे अपनी और खींच रहे थे उसका फिगर 34"32"36" था क्या क्यांत लग रही थी वो उसके होन्ट एकद्ूम पतले और उन पर लाल लिपस्टिक क्या ब्ताउ खा जाने का मान किया मेरा अब तो मैं रोज उसके घर क बाहर चक्कर लगने लगा वो जब झाड़ू लगने आती तो झुक के काम करती थी तो उसकी चुचिया आधे से ज़्यादा भहर आजाती थी मेरा तो लंड फूंकारने लगता था ये सब देख कर और मैं मूठ मरने पर मजबूर हो जाता था अब मैने थान लिया था की किसी भी तरह इसको चोधना है बस और मैं अपने कम पर लग गया|
जब भी वो झाड़ू लगाने आती मैं उसके सामने बैठ कर उसकी चुचिया देखता रहता और अपने लंड को मसलता रहता वो भी कोई नादान तो थी नही सब समझती थी अब तो उसका ये हाल था की बिना ब्रा क कमीज़ पह्न कर झाड़ू लगती ताकि एकद्ूम साफ मैं उसके योवां को निहार साकु.
कई दीनो तक ये सिलसिला चलता रहा एक दिन उसने मुझे कहा उसके बाथरूम का नल कराब है तुम देखो तो जरा
मैं तो इसी मोके की तलाश मे था उसके पीछे पीछे अंदर चला गया आज उसने लूज़ नाइटी पहनी हुवी थी मैं उनको भाभी कहकर बुला रहा था और वो मुझे मेरा नाम लेकर बुला रही थी.
मैं बाथरूम मे गया तो देखा नाल लीक कर रहा है
मैं.. भाभी ज ये लीक है खोल कर दोबारा टाइट क्रना पड़ेगा
भाभी.. हा तो कर दो ना सचिन
मैं.. आप यहा साइड मे आ जाओ मे नल खोलता हू आप पानी रोकना नही तो बहुत पानी बर्बाद हो जाएगा.
भाभी आगे मेरे पास खड़ी हो गयी जेसे ही मैने नल खोला बहुत सारा पानी एक साथ बाहर आया वो पूरी भीग गयइ उसके बूब्स साफ नज़र आने लगे मेरा तो लोड्‍ा टाइट हो गया ये भीगे हुवे बूब्स देखकर भाबी ने जल्दी से पाइप क आगे हाथ लगा दिया
भाबी.. ने कहा मेने इसे रोक लिया है आप जल्दी से डाल दो.
मैं.. मैं तो कब से रह देख रहा हू आप हा तो कहो अभी डाल देता हू
भाबी.. क्या
मैं.. ये नल और क्या आप इसे पकड़े रहो मैं इसे साफ करके डालूँगा
भाबी थोड़ी झुक कर खड़ी थी जिससे उसकी गान्द पीछे को आ रही थी मेरा लोड्‍ा कड़क था मैं भाबी की गेंड पे लोड्‍ा सता कर नल को लगने क लिए झुका भाबी को साफ महसूस हुआ पर वो कुछ बोली नही वो वैसे ही झुकी रही मैं बड़े आराम से नल लगा रहा था और लोड्‍ा गंद पे रगर रहा था 5 म्न्ट तक ये चलता रहा बाहर किसी की आवाज़ आई तो भाबी जल्दी से खड़ी हो गयइ.
भाबी.. बोली सचिन बाहर कोई है मैं आती हू तुम लगाओ
वो बाहर चली गयइ दोस्तो क्या ब्ताओ क्या मस्त गंद थी अगर थोड़ी देर और ऐसे रहती तो मेरा तो पानी निकल जाता वही पर.
उसके यहा कोई पडोस की और्त आई थी जब मैं बाहर आया तो उसने पूछा नाल बराबर हो गया क्या भाई
मैं समझ गया ये बड़ी शातिर और्त है मेने भी हा भाबी बोला और जाने लगा वाहा से तो उसने धन्यवाद कहा और मैं चला गया
दोस्तो उस दिन क बाद तो कई बार जेसे भी मोका मिलता मैं उसके घर जाता और उसके जिस्म को छू कर मज़ा लेता ना मेरी हिम्मत हो रही थी अगेआ बढ़ने की ना उसकी एक दिन शाम को भाबी ने कहा रात को फ्री हो क्या
मैं.. हा भाबी कहो ना क्या काम है
भाबी.. वो घर क बहुत से नल टप्क रहे है तुम्हारे बहिया बाहर जा रहे है आज 11 बजे जाएँगे तब आ जाना तुम्हारा भगवान भला क्रेगा.
मैं.. हा भाबी क्यो नही ज्ररूर आउन्गा आज आपके सारे नल ठीक कर दूँगा कही से भी पानी नही टपकेगा आज पूरी तेयारि क साथ आउन्गा
भाबी.. ओक आ जाना
दोस्तो क्या ब्ताओ ये तो खुला निम्नत्र्न था मेरे लिए या यूँ समझो अब मेरा उससे चकर चल गया
रात क खाने क बाद मैं बाथरूम मे घुस गया अपने बाल साफ करके लोड्‍ा चमकाया और आछे से नाहया पर्फ्यूम मार कर बाहर निकल गया
रात को मैं उसके पति क जाने का इंतेजर कर रहा था
वो साला कोई 11.30 बजे वाहा से निकला उसके जाने क 20 म्न्ट बाद मैं गेट क पास गया वो खुला हुवा था मैं बिना आवाज़ क अंदर चला गया और अंदर से लॉक कर लिया घर मैं एक ब्लुब जल रहा था मैने हिम्मत की और बेडरूम की तरफ पॅव ब्डा दिए
जेसे ही बेडरूम क डोर पे हाथ रखा वो अंदर की तरफ खुल गया रूम मैं भी काफ़ी अंधेरा था लेकिन डोर खुला होने क कारण बाहर की रोशनी अंदर आ रही थी पूजा भाबी बेड पे लेटी थी डोर खुलते ही
पूजा.. आओ भाई आ गये आज तो बहुत पानी टप्क रहा है कुछ करो ना जल्दी से
मैं.. हा भाबी जी अभी लो असी वॉट ल्गौँगा की एक हे बार मे सारा पानी बाहर आ जाएगा उसके बाद टपकने की कोई प्राब्लम नही होगी
पूजा.. डोर ब्न्ड करके आए हो ना
मैं.. हा ब्न्ड करके आया हू
पूजा.. ओक अब ये भी ब्न्ड करदो और आ जाओ देखलो कितना पानी टप्क रहा है
मैं.. लाइट का बटन कहा है असे अंधेरे मैं ब्राबर फिटिंग नही होगा कही पाना गलट लग गया तो
भाबी हासणे लगी और कहा की डोर क पास ही बीटीन है
मेने लाइट ऑन कर दी पूरा कमरा रोसन हो गया भाबी प्लांग पे लेती हुवी थी उपेर एक चादर डाले
पूजा..अब जहा से मान करे सुरू हो जाओ पर लाइकिंग ब्न्ड होनी चाहिए बस.
मुझे तो बिन माँगे सब कुछ मिल रहा था मैं झट से बिस्तेर पर चढ़ गया और जेसे हे चादर हतायी मेरा तो दिमाग़ सुन्न हो गया पूजा एकद्ूम नंगी लेती हुवी थी उसके गोल 2 बूब्स और निप्पल पहले ही खड़े हुवे थे शायद वो दिमाग़ मे सेक्स भरे हुए थी इसी कर्ण गर्म हो गयी और निप्पल खड़े हो गये मैने आव देखा ना तव टूट पड़ा बूब्स पे चूसने लगा भाबी क निप्पल उसका गोरा जिस्म अपने हाथो से रगर्ने लगा था मैं
पूजा.. आ उफ़फ्फ़ स्चिन अफ आ चूसो बहुत दीनो से इनको किसी ने छुआ नही है आ आिइ उफ़फ्फ़.
मैं.. क्यो भाबी ऐसा क्यो भाई कुछ नही करता क्या

पूजा.. आ उसको गोली मारो आ कमीना काम काम बस काम मे ही बिज़ी रहता है ये दो बचे भी पता नही केसे हो गये आ मैं तो आज तक अधूरी ही हू
मैं.. घबराव मत भाबी आज आपको पूरा कर दूँगा मैं
मैं भूके भेड़िए क जेसे बूब्स पे टूट पड़ा उनका सारा रस निचोड़ कर मैं जब चूत क पास अपने होन्ट ले गया तो दोस्तो क्या ब्टौ एक दूं क्लीन चूत थी भाबी की और एकद्ूम लाल सुर्ख फाँक देख कर मुझसे रहा नही गया और मैने अपने होन्ट टीका दिए चूत पे और चूसने लगा
पूजा.. आह उफ़फ्फ़ उ चॅटो मेरे राजा आ मज़ा आ गया अफ उस कुत्ते ने मुझे कभी ऐसा मज़ा नही दिया उई आ उफ़फ्फ़ अय्या आयई आह
मैने जीभ चूत मे घुसा दी और हिलाने लगा जिससे भाबी को और मज़ा आने लगा
पूजा.. आ अफ सचिन अपने कपड़े निकाल दो आ अपना औजार तो दिखाओ जिससे लीक को ठीक क्रोगे आ.
मैं झट से उठा और अपने क्पडे निकाल दिए पूजा की नज़र मुझ पर ही थी जेसे ही मेने अंडरवेर निकाला मेरा हरफनमोला बाहर आ गया
पूजा.. वाउ कितना ब्डा लंड है उ देख कर हे चूत मे दर्द का अहसास हो गया
इतना बोलकर वो बैठ गयी और लोड्‍े को सहलाने लगी मैने उसका सर पकड़ क लोड्‍े पे टीका दिया
बड़े सेक्सी अंदाज मे वो लंड चूसने लगी
आपको क्या ब्ताओ कितना मज़ा आया मुझे हम दोनो 69 क पोज़ मे आ गये थे दोस्तो आज तक तो 61 62 से हे कम च्लाया था समझ गये ना आप सायेड लड़किया ना समझे मे बतता हू मूठ मरने को 61 62 बोलते है तो आज इतने न्र्म होन्ट लोड पे थे बहुत मज़ा आ रहा था अफ.
5 म्न्ट तक वो लोड को चुस्ती रही और मैं उसकी चूत का रस पिता रहा साली बहुत पानी पानी हो रही थी
बड़ा हे नमकीन पानी था पूजा की चूत का अब मेरा लोड्‍ा भी रिसने लगा था मेने लोड्‍ा मु से निकाला और बैठ गया
मैं.. भाबी जान अब जल्दी से घोड़ी बन जाओ अब देखो केसे मैं तुम्हारी स्वारी क्रटा हू.
पूजा.. ओो ये बात है तो देवर ग स्वारी बाद मैं क्रना पहले असे हे डालो वेसए भी तुम्हारा पाना बहुत बड़ा है कही मेरा नाल ना टूट जाए पहले असे डालो बाद मैं जो कहोगे बन जौंगी.
मेने पूजा क दोनो पेर कंधो पे डाले और चूत पे लोड्‍ा टीका कर जोरदार झतका मारा पूजा की चींख निकल गयी मग्र एक्षपेरिंसे और्त थी तो दाँत भींच लिए डरड को ब्रदस्त कर गयी
पूजा.. आ आ उ जालिम आ एक हे साथ इतना बड़ा लोड्‍ा घुसा दिया एयेए आिइ एयेए उई आ आ.
मैं.. भाबी ग आ उहह ले उहह आप तो असे चीखी जेसे कोई कची काली हो 2 बचे इसी छूट से बेर आए है और भाई ने ना जाने कितनी बार अपना लोड्‍ा छूट मैं डाला होगा उहह उहह.
पूजा.. आ एयेए आिइ सही बात आ ह है लेकिन तेरे भीया आ का इतना तगड़ा लोड्‍ा नही है ऐइ और बचो को छूट से आ निकाला है तो क्या हुवा आिइ कितने महीने हो गये एयेए उस बात को ससस्स आह ससस्स ज़ोर से क्रो ना आह.
मैं अँधा धुन झटके मरता रहा और पूजा सिसकती रही 15 म्न्ट बाद हम दोनो झार गये.
दोस्तो उस रत मेने पूजा को 4 बार छोड़ा घोड़ी ब्नाकर तो बहुत मज़ा आया और लास्ट टिम की चुदाई तो हुँने बातरूम मैं की हम साथ 2 नहा रहे थे तो वाहा फिर लोड्‍ा कड़क हो गया और पूजा को देवार क सहारे करके पेल दिया लोड्‍ा छूट मैं.
दोस्तो अब तो जब भी मोका मिलता है मैं भाबी क यहा च्ला जाता हू और खूब चुदाई क्रटा हू उसकी साली गंद नही मरवती है बस छूट का हे रस देती है.
एक दिन मुझे देहली जाना था उंदिंो सर्दी का टाइम था मेरी ट्रेन 5:30 की थी ओर मैं 4 :00 ब्जे ही घर से निकल गया मेरे घर से 30 मिंट लगते ह गाड़ी से तो मैं घर से निकल कर उसे फ़ोन किया उसका रूम बाहर का था ओट उसने दरवाजा खोल दिया ओर मैं 4.05 पे उसके घर मे था रो हम देखते ही आपस मे लिपट गये उस दिन उसने पाजामी
सेलूक्ष जिसमे एलास्टिक होती है वो पहनी थी ओर एक कुरती थी मैं ने उसकी कुरती निकल दी ओर अपने कपड़े निकल डेए थे सारे फिर मैं उसकी ब्रा भी निकलना चाहता था पर वो खुली नि मुझसे तो मैने एक जटका मारा ओर वो टूट गई क्योकि मुझे काफ़ी जोस आगया था ओर टाइम भी काफ़ी कम था ओर फिर मैने उसकी पाजामी नीचे खिच दी ओर फिर उसकी पनटी भी उतार दी ओर ओव मेरा लॅंड सहला रही थी तो मेरा लॅंड एक दम रोड की तरहा हो गया था मेने पूजा को घोड़ी बनाया और लंड पे बहुत सारा थूक ल्गकर उसकी गंद क होल पे लंड रख कर ज़ोर्से झतका मार दिया उसा सोचने का मोका भी नही मिला की आज मैं उसकी गंद मारना चाहता हू एक झतके मैं पूरा लोड्‍ा अंदर घुसा दिया वो ज़ोर ज़ोर से चीखने लगी गलिया देने लगी पर मैं कहा मानने वाला था उसकी जाँघो को कस क पकड़ लिया और मज़े से गंद मरता रहा.
फ़र्दस उस दिन गंद क बाद उसकी छूट भी मारी और वही से न्हा कर चला गया कुछ दीनो बाद उसकी भांजी भी वाहा आई और मेने उसको भी पता कर छोड़ दिया पर ये सब लिखने क लिए वर्ड नही है फिर कभी ब्टौँगा.
फ़र्दस ये मेरी साची कहानी है ओर आज हम साथ न्ही है वो कही और चली गयइ है आपको ये खानी केसी लगी ज्ररूर ब्ताना मेरी ईद है
sachinkataria.nit@gmail.com
जिस किसी लड़की या भाबी को लंड चाहिए तो मई आपकी सेवा मई हाजिर हू जब आप चाहो मेरी ईद पे मैल करो मुझे इंतेजर र्हेगा आपके मैल का बाइ

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story