Meri Pyari Bivi Rand Nikli - Antarvasna.Us
AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

Meri Pyari Bivi Rand Nikli

» Antarvasna » Desi Sex Stories » Meri Pyari Bivi Rand Nikli

Added : 2015-11-02 11:37:03
Views : 5642
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us
अपनी कहानिया भेजे antarvasna.us@gmail.com पर ओर पैसे क्माए

हाय फ़्रेन्ड्स, मेरा नाम मनीष है। यह मेरी पहली कहानी है तथा पूरी तरह सच्ची है।
मेरे साथ ऐसा वाकिया हुआ जिसे मैं आप लोगों को बताना चाहता हूँ।

मेरी शादी 8 साल पहले सीमा से हुई थी। सीमा बहुत ही खूबसूरत लड़की है। उसका 34-28-36 का मदमस्त बदन.. किसी को भी कामुक कर दे.. वो बेइन्तहा खूबसूरत है।

कॉलेज में मुझे सीमा से प्यार हो गया था। पूरा कॉलेज सीमा का दीवाना था.. लेकिन सीमा मुझसे प्यार कर बैठी। सीमा के पापा बिजनेसमैन हैं।
मेरी शादी सीमा से होने के बाद सीमा के पापा ने खुद के एक अस्पताल का मैनेजर बना दिया। मेरी जिन्दगी सही से चलने लगी.. वास्तव में जीवन बड़ी खूबसूरती से चल रहा था।


एक बार मेरे दोस्तों ने दारू पीने का प्लान बनाया.. छुट्टी का दिन था। मैंने सीमा को झूट बोल दिया कि मुझे मुम्बई एक मीटिंग में जाना है, आज की फ़्लाइट से जाऊँगा और कल वापस आ जाऊँगा।
सीमा बोली- ठीक है।

मैं घर से निकला.. हम दोस्तों ने पूरी रात मौज़ मस्ती की, दारू पी, ताश खेले, ब्लू फ़िल्म देखी..
सुबह उठ फ़्रेश होकर मैं घर के लिये ऑटो से निकला.. रात के नशे का मजा लेने के लिये मैंने सोचा कुछ मजे लिए जाएँ।

मैंने ऑटो वाले से मजाक में पूछा- भाई कोई रन्डी का नम्बर है क्या?
ऑटो वाला पहले तो झिझक गया.. पर मेरे बार-बार पूछने पर वो बोला- साब, एक रान्ड है.. बहुत मस्त है साली..
मैंने बोला- कैसे मिलेगी?

ऑटो वाला बोला- साब पर्ल होटल में चले जाइए.. वहाँ रिशेप्शन पर बिन्दास बोल देना.. वो अरेन्ज कर देंगे।
मुझे ऑटो वाले ने होटल छोड़ दिया। मैंने काउन्टर पर जाके बोला- कोई काल गर्ल अरेन्ज कर दो।
उसने बोला- अच्छा माल चाहिए.. तो 5000 लगेंगे।
मैंने बोला- ठीक है।

उसने मुझे 201 नम्बर का रूम दे दिया ओर बोला- एक घन्टे में मैडम आ जाएंगी।
मैं कमरे में गया और वेटर को बुलाकर बोला- दो बीयर ला।
वो पैसे लेके बीयर ले आया।

मैंने वेटर से पूछा- जिसे बुलाया है.. वो कैसा माल है?
वेटर बोला- साहब मैडम तो वास्तव में ग़दर माल है।
मैंने पूछा- तू पहचानता है उसको?

वो बोला- साहब मैं खुद उसको 3 बार चोद चुका हूँ। साली मस्त रान्ड है.. मस्ती से चुदाती है। हम दो वेटरों ने एक साथ भी उसको चोदा है। मैंने उस रान्ड की गान्ड मारी और दूसरे ने उसकी चूत चोदी। साली पूरा लन्ड खा जाती है। एक बार एक आदमी चोद कर गया था उसके बाद पूरे स्टाफ़ ने मिल कर उसको चोदा था.. साली बहुत बडी रान्ड है।

मैंने बोला- कब-कब आती है?
वो बोला- साहब दिन में जब चाहे बुला लो.. रात में नहीं आती.. वैसे महीने में 10-15 बार तो आ ही जाती है।
मैंने बोला- वाह यार.. मस्त रन्डी है।

वो बोला- साहब आप जब चोद लो.. तो एक बार मुझे भी चोदने देना.. वैसे भी कोई भी उसे चोदता है.. तो भी एक बार मैं भी चोद लेता हूँ।
और वो हँसने लगा।

मैं बीयर पीते-पीते बाल्कनी में आ गया। वेटर भी साथ में था। हमने नीचे देखा एक ऑटो आ कर रूका.. वेटर बोला- आ गई साहब वो मस्त रन्डी।
वेटर उसे लेने गया। मैंने ऊपर से उस रान्ड को देखा क्या मस्त रन्डी थी।

थोड़ा आगे आने पर उसे देख कर मैं सन्न रह गया। वो रान्ड जिसे पूरा होटल चोद रहा था.. वो कोई और नहीं मेरी अपनी वाईफ़ सीमा थी।
दोस्तो, आप लोगों के मेल के बाद मैं विचार करूँगा कि आगे जो हुआ वो आप सब सुनना पसंद करेंगे या नहीं.. ये बताऊँगा।
आप मुझे इमेल जरूर करें.. मेरा ईमेल आईडी है।
manisha_dhariwal143@yahoo.in

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story