Chetna Ki Chudai Usi Ke Ghar Me-1 - Antarvasna.Us
AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

Chetna Ki Chudai Usi Ke Ghar Me-1

» Antarvasna » Hindi Sex Stories » Chetna Ki Chudai Usi Ke Ghar Me-1

Added : 2015-12-08 13:00:13
Views : 1585
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us
अपनी कहानिया भेजे antarvasna.us@gmail.com पर ओर पैसे क्माए

दोस्तो, जैसा कि आप जानते हैं मैं सुशांत पटना से हूँ। आपने मेरी अभी हाल में प्रकाशित दो कहानियाँ अन्तर्वासना पर पढ़ीं.. इसके अलावा आप अन्तर्वासना की इस लिंक को क्लिक मेरी सारी कहानियों का लुत्फ़ ले सकते हैं।

अब आपको एक और कहानी सुनाने जा रहा हूँ..
बात तब की है.. जब मैं पढ़ता था। तब से ही मुझे सेक्स करने की चाहत थी। हमेशा किसी की चूत मारने की सोचता था.. पर कभी मौका नहीं मिला था।
फिर अचानक एक दिन मेरी किस्मत ने जोर मारा। तब मेरे साथ मेरी एक दोस्त थी.. जिसका नाम चेतना था। वो मेरे घर के पास ही रहती थी। हम दोनों एक साथ स्कूल जाया करते थे।

आपको चेतना के बारे में बता दूँ.. वो एक गोरी सी मस्त छोकरी थी उसकी हाइट मेरे बराबर ही होगी.. लेकिन उसके चूचे उसकी बाली उमर के हिसाब से थोड़े बड़े थे। उसके होंठ एकदम पतले थी… जिसको कोई भी एक बार देखे.. तो उसको चूसने का मन करे। उसके उभरे हुए चूतड़ों का क्या कहना.. एकदम मस्त थे। कुल मिला कर कहूँ तो वो अभी माल तो नहीं बनी थी.. पर बनने वाली थी।

मैं अब तक उसके बारे में कभी भी ग़लत नहीं सोचा था.. लेकिन एक दिन मेरे साथ कुछ ऐसा हुआ कि मैं उसके साथ सेक्स कर बैठा।

एक दिन हम दोनों स्कूल जा रहे थे.. तब वो सफ़ेद शर्ट और स्कर्ट पहने हुई थी.. जो कि हमारा स्कूल ड्रेस था। स्कूल जाने के लिए हमें दो बार बस बदलनी पड़ती थी..
सो हम दोनों एक बस से उतर कर रोड पर चल रहे थे कि तभी वो फिसल कर गिर गई.. जिससे उसकी शर्ट पर उसकी चूचियों के पास कीचड़ लग गया.. तो मैं उसको पास के एक पार्क में ले गया और उधर के पानी से वो अपनी शर्ट धोने लगी.. लेकिन वो ठीक से धो नहीं पा रही थी.. सो मैं उसको बताने लगा कि देखो इधर और लगा है ताकि वो उधर भी कीचड़ साफ़ कर सके। जिधर कुछ अधिक गंदा लग रहा था.. तो मैं उधर के लिए उसे बता तो रहा था.. लेकिन वो साफ़ नहीं कर पा रही थी।

तब मैं अपने हाथ में पानी लेकर उसकी शर्ट को साफ़ करने लगा और उसे साफ़ करने में मुझसे उसकी चूचियाँ दबी जा रही थीं। हालांकि उसकी शर्ट अब भी ठीक से साफ़ नहीं हुई थी.. लेकिन इतनी हो गई थी कि वो ज्यादा बुरी नहीं लग रही थी। इस साफ़ करने की वजह से उसकी शर्ट भीग भी गई थी.. जिससे हम स्कूल तो जा ही नहीं सकते थे।

तो मैंने उससे कहा- चलो पहले तेरे घर चलते हैं.. और तुम अपनी ड्रेस चेंज कर लेना.. फिर स्कूल चलेंगे।
वो मेरी बात सुनकर तैयार हो गई और हम लोग एक बस में बैठ कर वापस लौटने लगे।
हम लोग बस के एक कोने वाली सीट पर बैठे थे।

मैंने कहा- चेतना.. अपना बैग उतार कर पीछे की सीट पर रख दो..
तो वह पीठ से अपना बैग उतारने लगी। जब वह बैग उतार रही थी तो उसकी शर्ट के कंधे पीछे की ओर हो गए और उसके चूचे बाहर की ओर निकल आए। मैंने देखा कि पानी में भीगने की वजह से उसके चूचुक एकदम कड़क हो गए थे।

उसकी आधी नंगी चूचियों को देख कर तो मेरा लण्ड खड़ा हो गया। उसकी चूचियों की साइज़ कम से कम 32 इंच तो होगी ही। मेरा मन कर रहा था कि बस स्कूल न जाकर उसे घर ले जाकर चोद दूँ।
मैं तो बस उसके मम्मों के बारे में ही सोच रहा था। इसी उधेड़बुन में एक बार गलती से मेरी कोहनी उसके मम्मे में लग गई.. बस फिर क्या था.. मेरे तो पूरे बदन में मानो आग सी लग गई और फिर मैं किसी न किसी बहाने से उसकी चूचियों को बार-बार रगड़ने लगा।

थोड़ी देर में हम उसके घर पहुँच गए। मैं अपना बैग लेने के लिए पीछे मुड़ा.. इतने में वो भी मुड़ी.. उसके होंठ मेरे गालों से छू गए।
फिर मैं बोला- बैग यहीं छोड़ कर चलो अपने कपड़े बदल लो।
वो बोली- ठीक है चलो।

घर की सीढ़ी चढ़ते वक़्त मैंने देखा कि उसके चूचे ऊपर-नीचे उछल रहे हैं। ये देख-देख कर मेरा तो लण्ड खड़ा हुआ जा रहा था। ना जाने कैसे उसकी शर्ट का बटन खुल गया था.. अन्दर से उसकी सफ़ेद रंग की ब्रा चमक रही थी.. लेकिन किसी तरह मैंने अपने आपको संभाल लिया।

जब हम उसके घर गए.. तो घर में कोई नहीं था। मैंने उससे पूछा तो बोली- सब लोग एक शादी में गए हैं।
मेरे मन में आया कि आज कुछ भी हो जाए.. इसको चोद कर ही जाऊँगा।

वो बाथरूम में गई और अपनी ड्रेस चेंज करने लगी। बाथरूम के दरवाजे में एक छेद था.. जिससे अन्दर का सब कुछ दिख रहा था।
मैंने देखा कि उसने सबसे पहले अपनी शर्ट उतार दी.. अब मुझे उसकी पतली कमर.. जो लगभग 26 इंच की होगी और मुलायम अधखुली चूचियां दिख रही थीं।
फिर उसने अपनी स्कर्ट भी उतार दी।
अब नीचे सिर्फ़ पैंटी थी.. जिससे उसकी गोरी और गोल-मटोल चूतड़ों की मदमस्त झलक दिख रही थी।

इतने में वो आगे को मुड़ी और उसकी चूचियाँ इतनी बेसब्र लगीं.. मानो ब्रा की कैद से जल्दी बाहर निकलना चाह रही हों।
नीचे देखा तो नजारा ही मस्त था.. उसकी फूली हुई चूत.. जो पैंटी के ऊपर से साफ पता चल रही थी।

इतने में उसने अपनी ब्रा भी उतार दी.. और उसकी दोनों चूचियाँ आज़ाद हो गईं.. फिर उसने अपनी पैंटी भी उतार दी। अब मेरे सामने उसका पूरा नंगा बदन था।

उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था। फिर वो अपने संगमरमर जैसे बदन को एक तौलिया से पोंछने लगी। तब तक मेरा लण्ड भी तन कर तंबू बन गया था उसकी नशीली जवानी के दीदार से मुझसे रहा नहीं गया और मैं अपने लण्ड को निकाल कर मुठ्ठ मारने लगा।
कुछ ही पलों में मैंने अपना सारा माल वहीं पर गिरा दिया।

अभी मैं स्खलित होने के बाद अपने लण्ड को पोंछ कर पैन्ट के अन्दर डाल ही रहा था कि तभी मैंने देखा कि चेतना बाथरूम से निकल आई है और उसने मुझको लण्ड को अन्दर डालते हुए देख लिया है।

मेरे होश उड़ गए.. मुझे एक शर्मिंदगी का अहसास सा होने लगा.. साथ ही मुझे लगा कि कहीं यह नाराज न हो जाए और मुझे इसकी चूत से हाथ गंवाना पड़ जाए।

तब भी मेरे मन में उसको चोदने की कसक अभी बाकी थी.. क्या हुआ क्या उसने मुझे चोदने दिया या मैंने कुछ और किया.. जानने के लिए अन्तर्वासना डॉट कॉम से मेरे साथ जुड़े रहिएगा।

दोस्तो.. आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी.. मुझे मेल करके जरूर बतायें.. इस पर भी आप अपने सुझाव भेजें।
मुझे आपके मेल का इन्तज़ार रहेगा..
कहानी जारी है।
shusantchandan@gmail.com

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story