Shadi Ke Pahle Chudai Ki Pariksha - Antarvasna.Us
AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

Shadi Ke Pahle Chudai Ki Pariksha

» Antarvasna » Honeymoon Sex Stories » Shadi Ke Pahle Chudai Ki Pariksha

Added : 2015-12-30 00:57:46
Views : 7212
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us
अपनी कहानिया भेजे antarvasna.us@gmail.com पर ओर पैसे क्माए

दोस्तो, यह कहानी मेरे एक मित्र अमित ने मुझे भेजी है.. आप अमित की लेखनी से ही कहानी का मजा लीजिए।
दोस्तो, मेरा नाम अमित है, मैं 26 साल का हूँ, मेरी हाईट 6 फुट है और मेरे लंड का साईज 7 इंच है।

मेरी शादी प्रिया के साथ तय हुई है, जो एकदम दूध सी गोरी है और 36-30-36 के फिगर वाली है।
मुझे प्रिया ने बताया था कि शादी से पहले मुझे उसके घर पर एक परीक्षा पास करनी पड़ेगी।

हालांकि मैंने शादी से पहले भी प्रिया को कई बार चोदा था, अपनी सारी इच्छाओं को पूरा करते हुए, ब्लू-फिल्म देखकर, दारू पीकर, अपने 4-5 दोस्तों के साथ मिलकर आदि खूब चोदा था। उसको भी इन सब तरीकों से चुदने में बहुत मज़ा आता था।
लेकिन शादी से पहले मुझे एक परीक्षा उसके घर पर पास करनी पड़ेगी.. यह सुनकर मुझे बड़ा अजीब लगा।

फिर कुछ दिनों पहले प्रिया के घर वालों ने मुझे बुलाया था.. कुछ प्रोग्राम था, जिसमें सिर्फ़ घर की औरतें ही रहती हैं।
उस प्रोग्राम में उस दिन प्रिया.. उसकी बहन शिवानी.. स्वाति और उसकी माँ थीं।

मैं वहाँ पहुँचा.. तब शाम के 7 बज रहे थे।
मुझे बैठाया गया और फिर नाश्ता आया.. इधर उधर की बातें करने के बाद मुझे बताया गया कि उनके खानदान की एक परंपरा है.. जो लड़की शादी करके उनके परिवार में आती है। उसको पहले घर के सारे मर्दो से चुदवाना होता है.. उसके बाद ही वो अपने पति से चुदवा सकती है और जो लड़का घर की बेटी से शादी करने वाला होता है। उसको भी पहले घर की सारी औरतों की भूख मिटानी होती है.. अगर वो ऐसा कर सका.. तभी उसको लड़की की चूत मिलती है। जैसे ही मैंने यह सुना तो मेरे दिमाग़ का काम करना बंद हो गया और मैं कुछ सोच-समझ ही नहीं पाया।

फिर 2 मिनट के बाद जब दिमाग़ ने काम करना शुरू किया.. तो मेरी आँखों के सामने स्वाति.. शिवानी.. प्रिया की माँ सबका नंगा शरीर घूम रहा था।
अब इन सबके बारे में जल्दी से बता दूँ कि स्वाति की उम्र 22 साल है.. फिगर 34-28-34 है। शिवानी 24 साल की है.. उसका फिगर 34-38-36 का है। माँ 49 साल की हैं.. उनका फिगर 38-34-40 का है।

मुझे चुप देखकर माँ ने पूछा- क्या हुआ? कोई शक़ हो रहा है क्या.. इतनी स्त्रियों को देखकर? चलो कोई बात नहीं.. सिर्फ़ मैं देखूँगी कि तुम हमारी बेटी को खुश रख पाओगे कि नहीं.. लेकिन तुम्हें बाकी दोनों को (स्वाति और शिवानी) को तो चोदना ही पड़ेगा।

फिर मैंने कहा- ऐसी कोई बात नहीं है.. मैं बस यह शर्त रखना चाहता हूँ कि मैं चोदूँगा सबको.. लेकिन अपने तरीके से.. फिर मुझे बीच में कोई रोक-टोक नहीं चाहिए।
मेरी बात सुनकर सब लोग एक-दूसरे की शक्ल देखने लगे।

फिर माँ बोलीं- ठीक है.. जैसे तुम चाहो वैसे चोदो.. बस इतना ध्यान रखना कि स्वाति और शिवानी दोनों अभी कुँवारी हैं।
मैंने कहा- पहले आप सब लोग बिल्कुल नंगे हो जाओ।

सबने तुरंत अपने-अपने कपड़े उतार दिए.. अपने सामने इतनी नंगी औरतों को देखकर मेरा दिमाग़ खराब हो गया। सबकी चूत पर झांटें थीं, मैं देखकर और पागल हो रहा था, मेरा अन्दर का जानवर जाग रहा था और मेरा लंड आधा खड़ा हो चुका था।

फिर मैंने तुरंत सबसे छोटी स्वाति को अपने पास बुलाया और अपने कपड़े उतार कर उसको घुटनों पर बैठाकर अपना लंड उसके मुँह में दे दिया। उसने लंड मुँह में लेने से इनकार किया तो मैंने ज़ोर से थप्पड़ मार दिया।
इस पर माँ ने कहा- अरे यह क्या कर रहे हो?
तो मैंने कहा- मेरा चुदाई करने का यही तरीका है.. आप लोग सिर्फ़ देखिए और अपनी चूत में उंगली डालते रहिए।

मेरा 7 इंच मोटा लंड मुँह में लेकर स्वाति की गाण्ड फट गई.. वो लगभग रोने लगी थी.. लेकिन मैंने अपना लंड उसके मुँह से नहीं निकाला। जब उससे नहीं रहा गया तो उसने मुझे पीछे धक्का मार दिया।

उसी समय मैंने उसके खुले हुए मुँह में किस कर दिया। फिर उसको धक्का मारकर पलट दिया और उसकी चूत पर अपना लंड लगा दिया। इसके पहले कि वो कुछ समझ पाती.. मैंने एक ही झटके में अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया।

साली सही में कुँवारी थी.. लंड घुसते ही ज़ोर से चिल्लाई- उई.. मादरचोद.. तेरी माँ की चूत.. कुत्ता साला.. माँ चोद दी तूने भोसड़ी के.. ओह्ह.. चूत फट गई..

ऐसी गालियाँ सुनकर मुझे और मज़ा आने लगा और तेज़ी से उसके बाल पकड़कर उसको थप्पड़ मारते हुए चोदने लगा। फिर 3-4 मिनट ही चुदाई हुई होगी कि उसकी चूत ने खून मिला पानी छोड़ दिया और वो ढेर हो गई।

मेरा लंड तो अब गर्म होना शुरू हुआ था.. उसकी चूत के पानी से.. वो भीगा हुआ था।
मैंने फिर देखा तो बिना बुलाए शिवानी आगे आ गई और खुद कुतिया की स्टाइल में तैयार होकर बोली- मेरी गाण्ड मार.. मैं अपनी चूत कई बार चुदवा चुकी हूँ।

उसकी खुली चूत देखकर पता चल गया था कि वो सच कह रही है।
मैंने उसकी गाण्ड के छेद पर थूक डालकर अपना अंगूठा उसमें घुसाया तो वो चिल्ला पड़ी- ओह.. बहनचोद.. धीरे कर..

फिर मैंने तुरंत अपना लंड पोंछ कर उसके मुँह में देना चाहा.. तो वो लेने से इनक़ार करने लगी कि उस पर स्वाति की चूत का पानी है.. लेकिन मैंने ज़बरदस्ती उसके मुँह में लंड घुसा दिया। काफ़ी देर तक लौड़ा चुसवाने के बाद मैंने उसकी गाण्ड पर अपना लंड लगाया और इसके पहले कि वो कुछ कहे या समझे मैंने धक्का मार दिया।

वो मेरा लंड संभाल ना सकी और नीचे गिर पड़ी.. लेकिन मैं जानवर कहाँ रुकने वाला था। मैंने बेरहमी से उसकी चुदाई शुरू कर दी.. वो ज़ोर-ज़ोर से रोने चिल्लाने लगी।
फिर कुछ 4-5 मिनट चुदवाने के बाद शिवानी की चूत ने भी पानी छोड़ दिया, वो बेहोश सी होकर गिर पड़ी।
इसी समय मेरा उनकी माँ की शक्ल देखने का मन हुआ.. लेकिन मुझे उनके चेहरे पर डर की बजाए चुदासपन दिख रहा था, मैं समझ गया कि यह रंडियो का खानदान है.. जहाँ फ्री सेक्स का माहौल है।
मैं भी खुश हो गया।

अब माँ उठ कर आ गई और बोली- तेरे जैसा जानवर तो मैंने कभी नहीं देखा है, तेरे लंड से इतनी चूत चुदवाने के बावजूद तू लंड से भी जानवर है और फ़ितरत से भी.. चल आ.. देखते हैं तू मेरा क्या हाल बनाता है?
इस पर मैंने कहा- आपके लिए तो ख़ास चुदाई है.. जैसे आपने कभी भी नहीं की होगी।

यह कहकर मैं लेट गया और उनको अपने मुँह पर बैठा लिया और चूत से निकले पानी और झांटों की मिली-जुली गंध से मैं पागल हो गया था, मुझ पर शैतान सवार हो गया था यह सोचकर कि इतनी उम्र की गोरी गदराई औरत नंगी मेरे मुँह पर अपनी चूत रगड़ रही है और मुझसे चुदने के लिए बेकरार है।

मैं उनकी चूत चाट रहा था और वो सिसकार रही थी ‘आआअहह.. मादरचोद.. तेरी माँ की चूत.. रंडी की औलाद.. साला भोसड़ी का.. बहनचोद.. ऊहह ऊहह.. मैं मर गई.. मेरी चूत से पानी निकल जाएगा… छोड़ दे रे.. आह्ह..’
वो चिल्लाती रहीं, आख़री में उनसे कंट्रोल नहीं हुआ और वो मेरे मुँह पर ही झड़ गईं और उसी के साथ मेरे मुँह में उन्होंने मूत दिया।

अब वो उठीं.. तो तुरंत मैंने धक्का मारकर उनको लेटा दिया और अपना लंड उनके मुँह में देकर उनका मुँह चोदने लगा।
पहले तो वो मजे से अपने सारे अनुभवों का फायदा उठाकर चूसती रहीं.. लेकिन जब मैंने अपनी स्पीड तेज़ कर दी और लगातार चोदने लगा.. तो वो तड़पने लगीं और मुँह से लंड निकालने की कोशिश करने लगीं.. लेकिन मेरी सख्ती के कारण निकाल ही नहीं पाईं।

आख़िर बहुत देर तक चोदने के बाद मैं भी उनके मुँह में ही झड़ गया और उस समय मेरा जितना वीर्य निकला था.. उसे देखकर मैं भी हैरान हो गया था।

फिर 5 मिनट का ब्रेक हुआ.. उसके बाद फिर मेरा लंड अपने आप खड़ा होने लगा। मैंने माँ को लेटाया और उनकी चूत और गाण्ड दोनों चाटने लगा। उनकी गाण्ड सूंघकर मेरा लंड बहुत तेज़ी से साँप की तरह फनफना कर खड़ा हो गया और काफ़ी देर चाटने के बाद मैं खुद लेट गया और उनसे अपनी गाण्ड चटवाई।

वो भी रंडी की तरह बड़े शौक से मेरी गाण्ड के छेद में अपनी जीभ घुसाकर चाट रही थी।
मैंने उनके मम्मों को खूब दबाया और उनको बहुत देर तक चूसा, चूचे चुसवाते वक्त वो मेरा लंड सहलाती रहीं।

जब हम दोनों बिल्कुल तैयार हो गए.. तो मैंने उनको पीठ के बल लेटाया और उनके ऊपर चढ़ गया। एक ही झटके में सरसराते हुए मेरा पूरा लंड उनकी चूत में घुस गया। फिर मैं बहुत देर तक तेज धक्के लगाने लगा और बहुत तेज़ी से लगाता रहा।
इतनी तेज़ी से मैंने स्वाति या शिवानी दोनों में से किसी को नहीं चोदा था.. जितनी तेज़ी से उनकी माँ चुद रही थी।

फिर करीब 12-15 मिनट की चुदाई के बाद मैंने उनको उठाया और कहा- कुतिया वाली पोज़िशन में तैयार हो जाओ।
वो उत्तेजित होकर तैयार हो गईं। फिर मैंने बिना थूक के उनकी गाण्ड की छेद पर अपने लंड को लगाया और धक्के मारना शुरू कर दिया।

मैं उनकी गाण्ड मारते वक्त अपने एक हाथ से बाल और दूसरे से मम्मों को पकड़कर.. बिल्कुल सड़क की रंडी बना कर चोदा।

वो भी बिल्कुल रंडी के रोल में आ चुकी थी और गंदी-गंदी गालियाँ दे रही थी- ओह.. मादरचोद.. ऊऊऊ ऊओह.. आराम से चोद भैन के लण्ड.. साले कुत्ते.. ऐसा तो मेरे पति ने.. ससुर ने.. बेटे ने.. जीजा ने.. पड़ोसी ने.. किसी माँ के लौड़े ने कभी नहीं चोदा है.. आह्ह.. किसी का लंड ऐसा ताक़त वाला नहीं था.. तू साला पक्का बचपन से ही अपनी माँ चोदता होगा.. आह्ह.. तेरी हवस से तेरी कोई बहन बच नहीं पाई होगी.. तू बहनचोद.. बहुत बड़ा वाला रंडीबाज है.. आह्ह.. माँ चोद देता है तू.. चुदाई करने में.. आआआअहह.. आआररराम.. से चोद बेटीचोद.. भोसड़ी के रांड की पैदाइश.. मार साले मेरी गाण्डमार.. आह्ह।

जितना अधिक वो गाली दे रही थी.. उतना ही अधिक मैं और भड़क रहा था और उसे हचक कर चोद रहा था।

फिर 10-12 मिनट की ऐसी चुदाई के बाद जब मुझे लगा कि वो आधे होश में ही रह गई है.. इसके साथ ही मैंने अपनी स्पीड बहुत तेज़ कर दी और ‘फ़च.. फ़च..’ की आवाज़ से उनकी चूत चोदने लगा.. जिसके साथ ही अगले 2-3 मिनट बाद मैं भी माँ की गाण्ड में ही झड़ गया।

उसके बाद हम लोग उठे और माँ ने मेरा लंड चूसकर साफ किया और इस पूरी चुदाई की वीडियो रिकॉर्डिंग भी हो रही थी। फिर इस सेक्स परीक्षा के बाद मुझे प्रिया से शादी करने की इजाजत मिल गई और मैं इस हवस के भूखे परिवार का एक हिस्सा बन गया।

मित्रो, उम्मीद है कि आप सभी आइटम रिसने लगे होंगे.. पर हस्त मैथुन के पहले मुझे ईमेल करना न भूलिए।

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story