Kuchh Khatti Meethi Garam Baaten - Antarvasna.Us
AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

Kuchh Khatti Meethi Garam Baaten

» Antarvasna » Sexy Adult Jokes » Kuchh Khatti Meethi Garam Baaten

Added : 2016-01-03 03:19:33
Views : 16238
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us
अपनी कहानिया भेजे antarvasna.us@gmail.com पर ओर पैसे क्माए

किसी लड़की की भावनाओं से खेलना अच्छी बात नहीं है…
आखिर उसके होंठ, चूचे, चूत, चूतड़ और गान्ड किस लिये हैं?

***
डर लड़की पटाने से नहीं लगता साहब
.
!
.
!
.
.
!
डर तो इस बात से लगता है, कि अगर पट गई तो चोदेंगे कहाँ!?

***

सच्चा दोस्त वही है…
जो दिला दे
या पिला दे!

***

इश्क विश्क, प्यार व्यार… क्या है हमें नहीं मालूम…
बस उसकी याद आती है और खड़ा हो जाता है!

***

मुझे आज भी याद है
वो सुहानी सी मुलाकात
पहले हहाथ मिलाए
फिर दिल मिले
फिर नंगे हु्ये
और खूब हिले…

***

प्रेमिका- तुम बहुत बुरे हो!
प्रेमी- क्यों मैंने क्या कर दिया?
प्रेमिका- अब मुँह ना खुलवाओ मेरा…
प्रेमी- खुल गया तो कौन सा तू मेरा मुँह में ले लेगी!

***

सर्दी में मन में आया महान विचार:
पेटिकोट ही एकमात्र ऐसा कोट है, जिसे उतारने के बाद सर्दी नहीं लगती।

***

आज का ज्ञान:

औरत की चूत
व्हाट्सऐप के मैसेज
कभी पुरानी नहीं होते
किसी न किसी के लिए
नया ही होता है!

***

अगर सुहागरात को दुल्हन की चूत पर झांटें हों
तो समझ लीजिए कि
लड़की की शादी उसकी मर्जी से नहीं हुई है!

…ज्ञान समाप्त…

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story