AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

Main Apne Jeth Ki Patni Ban Kar Chudi- Part 11

» Antarvasna » Bhabhi Sex Stories » Main Apne Jeth Ki Patni Ban Kar Chudi- Part 11

Added : 2016-02-24 22:27:08
Views : 2697
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us

अन्तर्वासना के पाठकों को आपकी प्यारी नेहारानी का प्यार और नमस्कार।

अब तक आपने पढ़ा..
पड़ोसी चाचाजी ने मुझे पकड़ रखा था.. और वे मुझसे मस्ती किए जा रहे थे।
‘एक बात और.. तुमको मेरे लण्ड को देख कर चुदने का मन कर रहा है ना..?’
मैं छूटने के लिए भी और मेरे दिल में लण्ड भा गया था इसलिए भी बोल पड़ी- हाँ.. कर रहा है चुदने का मन..

तभी मैं चिहुँक उठी.. उन्होंने अपना एक हाथ ले जाकर मेरी बुर को दबा दिया था.. ‘आउआह्ह..’
मेरी सीत्कार सुन कर उन्होंने मुझे छोड़ दिया.. मैं वहाँ से सीधे नीचे आते वक्त बोली- मैंने जो कहा है.. सब झूठ है.. मेरा कोई मन नहीं है..
पर उन्होंने मुस्कुराते हुए मुझे एक किस उछाल दिया।

अब आगे..

मैं वहाँ से भागकर अपने बेडरूम में जाकर उस पल को याद करने लगी कि क्या ठरकी बुढ्ढा है.. साला इतना जल्दी मेरे जोबन पर हाथ लगा देगा.. मुझे यह उम्मीद ही नहीं थी.. पर उसने जो हरकत की.. वह मेरी चूत के आग को भड़काने के लिए काफी थी।

चाचा बहुत रसिक मिजाज लग रहा है.. और उसका लण्ड भी बहुत हैवी है.. मेरे मन मस्तिष्क में अभी यह चल ही रहा था कि तभी घन्टी की आवाज सुनाई दी और मैंने गेट खोला तो सामने पति खड़े थे।
पति ने मुझे वहीं गले लगा कर चूम लिया, फिर अन्दर आकर गेट बन्द करके मुझे गोद में उठा लिया और अन्दर ले जाकर बिस्तर पर लिटाकर मेरी चूची को दबाते हुए बोले- कैसी कटी मेरी जान की रात मेरे बिना?

मैं मन ही मन बुदबुदाई कि बहुत ही मस्त.. काश आज भी नहीं आते.. तो दिन में बगल वाले ठरकी से कुछ और मजे ले लेती।
‘क्या सोच रही हो..?’
‘कुछ नहीं.. आप खुद ही देख लो मेरी रात कैसी रही.. आपके बिना मेरी मुनिया का क्या हाल हुआ है..’
मैंने जानबूझ कर दो अर्थी बात कही थी.. क्योंकि आप सभी तो जानते ही हैं रात में मेरी चूत कई बार चोदी गई।

तभी पति ने मेरी स्कर्ट को ऊपर करके मेरी चूत पर हाथ रख कर हल्का सा दबाकर पूछा- कैसी हो.. मेरे बिना कैसी रही रात?
पति चूत से बात कर रहे थे और फिर मेरी चूत की फांक को खोल कर देखने लगे।
‘यह क्या.. तुम तो आँसू बहा रही हो.. मेरी मुनिया को लण्ड चाहिए क्या?
उन्होंने पुचकारते हुए अपनी एक उंगली मेरी बुर में डाल दी।

‘आहह्ह्ह्.. सीईईई..’
मैं सुबह से ही चाचा की हरकतों से इतना गरम थी और चाचा के लण्ड के विषय में सोचकर मेरी चूत मदनरस छोड़ रही थी.. उस पर से पति के बुर में उंगली पेलने ने मेरी सिसकारी निकाल दी।

‘वाह मेरी जान.. मेरी मुनिया ही नहीं तुम भी चुदने को तड़प रही हो..’
मैं कैसे बताऊँ आपको कि मैं रात भर चुदी हूँ.. तब तो यह हाल है.. औऱ यह बगल वाले बुढ़ऊ का भी लण्ड लेने को उतावली है।
मैं मन में बुदबुदा रही थी।

फिर पति मेरे ऊपर लेट कर मेरे होंठों को चूसते हुए मेरी बुर मसकने लगे। मुझे लगा कि कुछ देर और चला तो हम लोग अभी चुदाई के गोते लगाने लगेंगे।
मैं पति से बोली- आप पहले नहा लो और कुछ खा लो.. फिर अपनी मुनिया की गरमी निकालना।

मेरी बात मान कर पति बाथरूम में नहाने चले गए और मैं रसोई में चली गई। मैं खाना गरम करके टेबल पर लगा कर पति के आने का वेट करने लगी। कुछ देर बाद बाथरूम का दरवाजा खुलने की आवाज आई और पति बेडरूम से पूरे नंगे ही बाहर निकल आए थे। टावेल से बाल सुखाते हुए मेरी बगल में आकर किस करके बैठ गए।

‘अरे.. यह क्या.. आप ऐसे ही नंगे ही खाना खाओगे?’
‘हाँ मेरी जान.. इसके बाद तो मुझे तुम्हारी चूत चोदनी है.. क्योंकि रात से आपके लण्ड महाराज भी बहुत उछल रहे हैं अपनी मुनिया की चुदाई करने के लिए।’
मैं बस मुस्कुरा दी।

तभी पति ने कहा- मैं सोचता हूँ कोई खाना बनाने वाले को रख लूँ और वह घर का काम भी कर लिया करेगा.. सारा काम तुमको करना पड़ता है।
‘मैं भी यही सोच रही थी.. पर मैंने कभी आपसे कहा नहीं.. बगल में एक खाना बनाने वाली आती है.. मैं उससे बात करूँ?’

‘नहीं.. आज मेरे पास एक लड़का आया था.. उसका नाम संतोष है.. उसे काम चाहिए.. वह कह रहा था कि वह हर प्रकार का खाना बना लेता है और इससे पहले वह एक साहब के यहाँ काम करता था। मेरे पूछने पर वह बोला सर मैं खाना पोंछा और घर का सब काम करूँगा.. मैंने उसे शाम को बुलाया है। तुम कहो तो कल से आ जाए.. या तुम एक बार खुद मिल कर डिसाईड कर लो कि कैसा है।’

‘ठीक है शाम को उसे घर का पता देकर भेज देना.. मैं बात कर लूँगी।’
फिर हम लोगों ने खाना खाया और मैं बर्तन आदि समेट कर रसोई में ले गई। तभी पति नंगे ही रसोई में आकर मुझे गोद में लेकर बेडरूम में चले आए।
‘आकाश अभी बहुत काम है.. छोड़ो बाद में..’

पर पति ने मेरी एक ना सुनी और मुझे भी नंगी करके बिस्तर पर लिटा कर खुद मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे छाती और निप्पलों को मसकने लगे। एक तो मेरे चूचुक मिसवाने के लिए गैर मर्द के हाथ लगाने से सुबह से ही खूब तने हुए थे.. ऊपर से पति ने मेरे चूचुकों को कसके पकड़ लिया।

चूचुक दबाते हुए बोले- वाह जान.. आज तो तुम्हारी चूचियों में गजब का तनाव है.. ये भी तो फड़क रही हैं मसलवाने के लिए और तुम मना कर रही थीं। तभी पति ने मेरी घुंडियों को जोर से मसक दिया।

‘आहह्ह्ह.. सीईईई.. ओफ्फ्फ्फ..’
मैं पति के सीने से चिपक गई। मेरी हालत तो बगल वाले चाचा ने अपने लण्ड दिखाकर और मुझे अपने सीने से चिपका कर जो अश्लील शब्द मुझसे बुलवाए थे.. तभी से मेरी बुर चुदने के लिए मचल रही थी।

अब अचानक पति ने मुझे पकड़ करके झुका दिया और पति अपना गरम सुपाड़ा.. मेरे गुलाबी होंठों पर रगड़ने लगे- ले चूस इसे..

और मैंने अपने होंठ खोल कर सुपाड़े को मुँह में भर लिया। मैं अपने गुलाबी.. मखमली होंठों से पति के सुपाड़े को रगड़ते हुए लण्ड अन्दर ले रही थी साथ ही मैं सुपाड़े के निचले हिस्से को चाट भी रही थी।
थोड़ी देर तक मैं ऐसे ही पति के मोटे सुपाड़े को चूमती-चाटती रही। तभी पति ने उत्तेजित होकर मेरे सर को और जोर से अपने लण्ड पर दबाया और आधा लण्ड मेरे मुँह में घुसा दिया।

मैं अपनी गर्दन ऊपर-नीचे करके खूब कसके चूस रही थी।
कुछ देर चुसाने के बाद पति ने लण्ड मेरे मुँह से खींच कर बाहर निकाल लिया और मुझे बिस्तर के सहारे घोड़ी बना कर मेरे पीछे मेरी चूत और गाण्ड पर लण्ड घिसने लगे।

मेरी रस चूती बुर पर.. तो कभी रस लगे लण्ड से मेरी गुदा द्वार पर.. लण्ड दबा देते। थोड़ी देर चूत और गुदा के छेद की लण्ड से मालिश करने के बाद पति ने लण्ड मेरी चूत पर सटाया और एक झटके में सुपाड़ा अन्दर पेल दिया।
‘अह्ह्ह्हा आआइइइइइ इइइइइइ..’
मैं पति के लण्ड पेलने से खुद पर नियंत्रण नहीं रख पाई और मेरे मुँह से तेज सिस्कारियों की आवाज निकलने लगी।

पति मुझे घोड़ी बनाए हुए थे.. इसलिए मेरी फूली हुई चूत बाहर को निकली हुई थी। ऐसे में पति के लण्ड का हर शॉट जब मेरी चूत पर कस-कस के पड़ता.. तो मेरी चूत निहाल हो उठती। पति का लण्ड मेरी चूत रगड़ता घिसता ही जा रहा था।

मुझे एक नए किस्म का मजा मिल रहा था.. इसी तरह मुझे चोदते हुए पति ने मेरे गोल-गोल हिलते हुए मम्मों को पकड़ उन्हें दबा-दबा के कसके चोदते रहे। मैं चूत में लण्ड पाकर बेहाल होकर हर शॉट खुल कर ले रही थी। मैं फूली हुई चूत को पीछे करके लण्ड के हर शॉट को चूत पर लगवाती हुई कराहती रही ‘ओह.. उफ्फ आहह्ह्ह..’

पति मेरी चूची रगड़ते.. पीठ और गले पर चूमते.. कस-कस कर बुर से लण्ड सटाकर चोद रहे थे। मैं भी बुर में सटासट पति का लण्ड पेलवा रही थी। मेरी चूत शॉट लेते हुए झड़ने के करीब थी.. मेरा पानी गिरने ही वाला था।
अब पति भी चूत में लण्ड और तेजी से ठोक रहे थे। तभी पति ने मुझे किचकिचा कर चपका लिया और कसकर पकड़ लिया और पति के लण्ड से पिचकारी निकलने लगी।

‘ओह नहींईईई.. अह्ह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह्.. ह्ह्ह.. यह्हह्ह क्क्क्क्क्या किया.. मेरी चूत प्यासी है.. और चोदो ना.. नहींईईई ईईई.. ऐसा ना करो.. मेरी बुर मारो.. चोदो..’
मैं चिल्लाती रही.. पर पति झड़ कर मेरे ऊपर से उतर कर लम्बी-लम्बी साँसें लेते हुए बोले- ओह्ह्ह.. सॉरी.. मैं रात से इतना गरम था कि तुम्हारी गरम चूत में पिघल गया.. आज रात में जरूर पानी निकाल दूँगा।

मैं कर भी क्या सकती थी.. मैं प्यासी चूत लेकर पति के बगल में लेट गई। लेकिन मेरा तन-मन बैचेन था। इस टाइम मुझे कुछ सूझ ही नहीं रहा था। मैं कुछ भी ऊँच-नीच कर सकती थी.. मेरे ऊपर वासना का नशा हावी था। अभी मेरे दिमाग में यही सब चल रहा था और तब तक पति खर्राटे भरने लगे।

मैं बगल वाले चाचा से जो हुआ वह आगे नहीं होगा यही सोच थी कि चाहे अंजाने या जान कर जो भी हुआ.. वह अब नहीं होगा.. वह हैं तो मेरे पड़ोसी.. मैं उनसे अब कभी नहीं मिलूँगी.. ना ही उनकी तरफ देखूँगी.. पर मेरी वासना शायद अब मेरे बस में नहीं रह गई थी।
मुझे इस समय कोई मर्द नहीं दिख रहा था.. जो मेरी चूत को अपने लण्ड से कुचल कर शान्त कर सके.. बस मेरी निगाह में बगल वाले चाचा दिख रहे थे और मैं सेक्स के नशे में बिलकुल नंगी ही छत पर जाने का फैसला करके चल दी।
मैं पूरी तरह नंगी ही सीढ़ियाँ चढ़ती गई। मैंने सेक्स के नशे में चूर होकर यह भी नहीं सोचा कि इस वक्त वह होंगे कि नहीं.. कोई और होगा तो क्या होगा.. पर मेरी वासना मेरी चूत को पूरा यकीन था कि ऊपर आज जरूर किसी का लण्ड मिलेगा और मेरी चूत पक्का चुद जाएगी।

मैं वासना में अंधी पूरी तरह नंग-धड़ंग छत पर पहुँच कर देखने लगी। उधर कोई नहीं दिखा.. बगल वाली छत पर हर तरफ निगाह दौड़ाई.. पर चाचा कहीं नहीं दिखे।

मैं अपनी किस्मत को कोसते हुए दीवार से टेक लगाकर अपनी टपकती चूत और मम्मों को अपने हाथों से सहलाने लगी। मेरी फिंगर जैसे ही चूत की दरार में पहुँची.. मेरी आँखें मुंद गईं.. ‘ओफ्फ.. आहह्ह्ह्.. सिईईई..’

मेरे होंठ काँप रहे थे और मैं यह भी भूल गई थी कि अगर चाचा के सिवाए कोई और देख लेगा तो मुसीबत आ जाएगी.. पर मैं आँखें बंद करके अपने ही हाथों अपनी यौन पिपासा को कुचल रही थी। मैं जितनी चूत की आग को बुझाना चाहती थी.. आग उतना ही भड़क रही थी।

तभी मैं चाचा को याद करके चूत के लहसुन को रगड़ने लगी और यह सोचने लगी कि चाचा मेरी रस भरी चूत को चाट रहे हैं और मैं सेक्स में मतवाली होकर चूत चटा रही हूँ। मैं अपने दोनों हाथों से बिना किसी डर लाज शर्म के अपने मम्मे मसकते हुए सिसकारी ले-ले कर चूत को खुली छत पर नीलाम करती रही।

कहानी कैसी लग रही है.. जरूर बताइएगा। आप को मेरी जीवन पर आधारित कहानी अन्तर्वासना पर मिलती रहेगी.. मुझे खुशी है कि मेरे कहानी पढ़ कर आपका वीर्य निकलता है।

कहानी जारी है।
neharani9651@gmail.com

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story