चेटिंग से चूत चुदाई तक - Antarvasna.Us
AntarVasna.Us
Free Hindi Sex stories
Only for 18+ Readers

चेटिंग से चूत चुदाई तक

» Antarvasna » Sex Chat » चेटिंग से चूत चुदाई तक

Added : 2016-04-28 00:07:32
Views : 4366
» Download as PDF (Read Offline)
Share with friends via sms or email

You are Reading This Story At antarvasna.us
अपनी कहानिया भेजे antarvasna.us@gmail.com पर ओर पैसे क्माए

प्रेषक : दामिनी
हैल्लो दोस्तों, में दामिनी आज आप सभी को अपनी पहली सच्ची घटना बताने जा रही हूँ मेरी उम्र 21 साल है और में एक भरे पूरे जिस्म की मालकिन हूँ। मेरे फिगर का साईज 30-26-32 है और में अक्सर बिल्कुल टाईट जींस और टॉप पहनती हूँ जिसकी वजह से में और भी हॉट सेक्सी दिखती हूँ और हर कोई मेरे बदन को देखकर मेरी तरफ आकर्षित हो जाता है। दोस्तों यह पिछले साल पहले की बात है जिसने पूरी तरह मेरे जीने का अंदाज ही बदल दिया, तब मुझे 12वीं पास करने पर मेरे भाई ने एक मोबाईल गिफ्ट किया। दोस्तों वैसे नेट तो में पहले से ही काम में लिया करती थी, लेकिन मोबाईल मेरे पास होने से में ज्यादा समय उस पर ऑनलाईन रहने लगी। मेरे बहुत से दोस्त थे जो रोज ऑनलाईन होते थे और उनमे मेरा सबसे अच्छा दोस्त था राजेश। हम रोज रात को बहुत देर तक बात करते थे और फिर एक दिन उसने मुझसे बातों ही बातों में कहा कि में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ, पहले तो मैंने साफ मना कर दिया और वो मान भी गया, लेकिन एक दो सप्ताह में मुझे पता नहीं क्या हुआ? मैंने उससे हाँ कह दिया और वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर बहुत खुश हो गया और अब हम रोज रात को बहुत देर तक चेट करने लगे उसने मुझे अपना मोबाईल नंबर दे दिया और कहा कि में जब भी फ्री रहूँ तो मैसेज या कॉल कर दूँ।
फिर एक दिन मुझे रात को नींद नहीं आ रही थी इसलिए मैंने उसे एक मैसेज कर दिया “हाय”, लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया और आधा घंटा इंतजार करने के बाद मैंने उसे एक मिस कॉल किया, उसने मुझे कॉल किया और मुझे उसकी आवाज़ आई आप कौन? तो मैंने कहा कि अब आप ही पहचानो में कौन हूँ? तभी उसने मुझसे कहा कि पता नहीं तो मैंने कहा कि यार में दामिनी बोल रही हूँ वो इतना सुनकर बहुत खुश हुआ और उस दिन हमने करीब एक घंटा बातें की और फिर सो गये, लेकिन अब हम रोज कभी मैसेज तो कभी फोन पर बात करने लगे थे और एक दिन रात को उसने मुझसे बात करते हुए पूछा कि मेरी जान तुम्हारा साईज़ क्या है? दोस्तों पहले तो मुझे कुछ भी समझ में नहीं आया और फिर उसने मुझसे कहा कि क्यों तुम किस नंबर की ब्रा पहनती हो? तो में उसकी यह बात सुनकर शर्म से पानी पानी हो गई, लेकिन मैंने जवाब दे दिया 30 और फिर उसने मुझसे पूछा कि नीचे से शेव्ड हो या नहीं, मुझे शरम भी आ रही थी और मज़ा भी। फिर मैंने जवाब दिया कि बिना शेव्ड। उसने हंसकर कहा कि तुम शेव क्यों नहीं करती हो? तो मैंने उसे खाली मैसेज भेज दिया कि शायद उसे देखकर वो समझ गया कि में शरमा रही हूँ। तो उसने मुझसे कहा कि दामिनी अब हम दोनों एक कपल्स है और अपनी बातें एक दूसरे से शेयर कर सकते है और उस रात के बाद वो रोज मुझे किसी ना किसी बहाने से गरम करता और हम सारी सारी रात सेक्स चेट करते तो कभी वो मुझे कॉल करके फिंगरिंग भी करवाता।
अब मुझे भी उससे चुदने की चाहत बहुत बढ़ गई थी और अब में रोज उसे कहती कि मेरे पास आ जाओ, लेकिन वो कोई ना कोई बहाना बना देता। एक दिन उसने मैसेज किया और कहा कि क्या तुम मुझसे मिलना चाहोगी? में तो पहले ही बहुत तड़प रही थी और मैंने झट से हाँ कह दिया तो उसने मुझे एक होटल का पता मैसेज में दिया और मुझसे वहां पर शाम को आने को कहा। में अपने घर पर तो सबकी लड़ली थी तो कहीं भी बाहर आने जाने से मुझे कोई भी रोक नहीं थी। फिर मैंने शाम को अपनी स्कूटी उठाई और उस होटल चल दी और जब में होटल के बाहर पहुंची तो मैंने उसे कॉल किया उसने मुझे रूम नंबर बताकर आने को कहा और फिर मैंने जल्दी से अपनी स्कूटी को पार्किंग में लगाकर रूम के बाहर पहुंच गई और दरवाजा बजाया तो सामने राजेश खड़ा हुआ था। मैंने नेट पर उसकी एक फोटो देख रखी थी। उसने हल्के गुलाबी कलर की शर्ट और काली कलर की पेंट पहनी हुई थी। वो 6 फिट लंबा और हट्टा-कट्टा नौजवान था। मेरे जिस्म में उसे देखकर एक अलग ही नशा छा गया। अब उसने मुझे अंदर बुलाया और मेरे अंदर आते ही उसने झट से दरवाजा बंद कर दिया। फिर हम बैठकर बातें करने लगे। दोस्तों में आप सभी को तो बताना ही भूल गई कि मैंने पीले कलर का एक ढीला सा टॉप और एकदम टाईट काली कलर की जींस पहनी हुई थी। फिर धीरे धीरे बातों में उसने मेरी जांघो को सहलाना शुरू कर दिया, लेकिन मैंने भी उसका कोई विरोध नहीं किया तो उसकी हिम्मत और बढ़ गई फिर उसके हाथ मेरी कमर पर आ गये और उसने एकदम से अपने होंठ मेरे होंठो पर रख दिए में भी उसका पूरा पूरा साथ देने लगी। फिर उसने अपना एक हाथ मेरे बूब्स पर रख दिया और अब धीरे धीरे दबाने लगा उसके ऐसा करने पर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।
फिर उसने मेरे टॉप में हाथ डाल दिया और ब्रा के ऊपर से मेरे बूब्स को दबाने लगा। दोस्तों यह एक अलग ही मज़ा था जिसको में शब्दों में नहीं बता सकती। अब मैंने भी उसकी पेंट के ऊपर से ही उसके लंड को दबाना शुरू कर दिया और मेरी सिसकियाँ पूरे रूम में गूँज रही थी अहहह्ह्ह आह्ह्हह्ह्ह्ह राजेश हाँ और ज़ोर से दबाओ हाँ ऐसे ही ओहह् और राजेश भी इसका पूरा पूरा मज़ा ले रहा था। फिर उसने मेरा टॉप उतार दिया और मेरे बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा और मसलने लगा। में भी अब सिसकियों के साथ साथ चिल्ला भी रही थी ऊईईईईई हाँ खा जाओ जान बहुत तड़पती हूँ में तुम्हारे बिना, हाँ और ज़ोर से मसलो, पूरा निचोड़ दो। फिर उसने मेरी ब्रा को उतारकर फेंक दिया, उसके बाद जींस और अब में ठीक उसके सामने सिर्फ़ गुलाबी कलर की पेंटी में थी। उसने मुझे अपनी बाहों में लेकर बेड पर लेटा दिया और मेरी चूत को पेंटी के ऊपर से ही चूसने लगा। उसके ऐसा करने से में एक अलग ही दुनियां में पहुंच गई और उसके मूँह को अपनी चूत में दबाने लगी। फिर उसने दांतों से मेरी पेंटी को खींचा और मैंने भी गांड उठाकर उसका साथ दिया। दोस्तों ये कहानी आप antarvasna.us पर पड़ रहे है।
अब वो मेरी घने बालों वाली चूत को चूस रहा था और में इस पल का मज़ा ले रही थी। फिर उसने अपने सारे कपड़े उतार दिए और अब मेरे सामने उसका तना हुआ 8 इंच का लंड था। में तो पहले ही आग में जल रही थी में उछलकर उसके लंड को चूसने लगी और वो मुझसे कहने लगा कि हाँ दामिनी अहहहह ऐसे ही चूसो, हाँ बहुत अच्छे ओहह और आंड हाँ इन्हें भी खा जाओ, ऐसे ही मैंने करीब पांच मिनट तक उसके लंड को चूसा और फिर उससे चोदने को कहा तो उसने मुझे अपनी गोद में उठाया और बेड पर पटक दिया। फिर अपना तना हुआ लंड मेरी गरम गरम चूत के मुहं पर रख दिया और एक ज़ोर का धक्का दिया और अब उसके लंड का टोपा मेरी चूत में समा गया और में ज़ोर से चिल्ला पड़ी राजेश अह्ह्ह्हह प्लीज बाहर निकालो इसे अह्ह्ह्हह।
फिर उसने मेरे होंठो पर अपने होंठ रख दिए और मेरी आँखो से आंसू बाहर निकल आए, लेकिन उसने एक और जोरदार धक्का मारा और अब उसका आधा लंड मेरी चूत में था। शायद उसने मेरी सील को तोड़ दिया था और फिर मेरी चूत से खून निकल रहा था, लेकिन उसे मुझ पर बिल्कुल भी दया नहीं आ रही थी। फिर एक और धक्का और पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में घुस गया, लेकिन फिर एक दो धक्को के बाद मुझे भी मज़ा आने लगा और में भी अपनी गांड को उठा उठाकर उसका साथ देने लगी, हाँ राजेश उह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह और ज़ोर से हाँ ऐसे ही ओहह्ह्हह हाँ और ज़ोर से ओहह और सारा रूम हमारी चुदाई की फच फच की आवाज से गूँज रहा था और राजेश ने धक्के और तेज कर दिए और अब वो कह रहा था कि यह ले मेरी जान और तेज़ आह्ह्ह्हह अहहह आईईईइ में भी उसका साथ पूरा दे रही थी हाँ जानेमन और गहराई तक डालो और ज़ोर से धक्का दो आहह हाँ बहुत मज़ा आ रहा है। फिर करीब आधे घंटे के बाद उसने मुझे अलग अलग पोज़ में चोदा कभी डॉगी स्टाइल में तो कभी अपने ऊपर बैठाकर और में इतनी देर में तीन बार झड़ गई थी और अब वो भी झड़ने वाला था। फिर उसने मुझसे पूछा कि कहा निकालूं दामिनी? मैंने उससे कहा कि अंदर ही निकाल दो में पूरा मज़ा लेना चाहती हूँ और दो तीन धक्कों के बाद उसकी गरम गरम मलाई मेरी चूत के अंदर निकल गई और वो बिल्कुल निढाल होकर पड़ गया।
फिर हम थोड़ी देर वैसे ही पड़े रहे और फिर उसने मुझे किस किया और फिर मैंने उसका लंड चूसकर दोबारा से खड़ा कर दिया। उस दिन उसने मुझे तीन बार चोदा और मेरी चूत को भी बहुत बार चूसा और मुझे चोदकर चूसकर पूरी तरह से संतुष्ट किया और दो घंटो की चुदाई के बाद में ठीक तरह से चल नहीं पा रही थी तो हम दोनों ने बाथरूम में जाकर नहाना शुरू किया और उसने मुझे नहाते नहाते भी चोदा फिर मुझे कपड़े पहनाए और स्कूटी तक छोड़कर चला गया और पार्किंग में उसने मुझे एक किस देकर मुझे वहां से रवाना किया। फिर मैंने अपने घर पर आने के बाद उसे फोन किया तो उसने मेरा हालचाल पूछा तो मैंने उसे बताया कि यह मेरी पहली चुदाई थी और तुमने तो मेरी चूत का नक्शा ही बदल दिया उसे पूरी तरह फाड़ दिया है, लेकिन में तुम्हारी इस चुदाई से बहुत खुश हूँ और अब तुम मुझे हमेशा चोदकर खुश करते रहना और में तुमसे चुदवाती रहूंगी और उसके बाद हमारी चुदाई अब तक चलती आ रही है। दोस्तों यह थी मेरे जीवन में पहली बार चुदने की एक सच्ची घटना ।।
धन्यवाद

» Back
2016 © Antarvasna.Us
Kamukta, Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story